सकारात्मक सोंच, पॉजिटिव सोच की ताकत, निरंतर पोसिटिव सोच से लाभ। Positive thinking, power of positive thinking, benefits from continuous positive thinking.


दोस्तों बताने बैठू तो लगता है, जिंदगी कम पड़ जायेगी अपनी पुरानी जिंदगी की दास्तान सुंनाने में कितनी उतार चढ़ाव नजर आती है ये जिंदगी अगर पीछे मूड के देखा जाए तो, और ये एसा नहीं है की किसी एक व्यक्ति का हाल है, ये हाल तो सभी का होता है। फर्क है की हम सोच लेते है, या हमें लगता है की अगर हमारे जिंदगी में दुःख आता है, तो हमारा दुःख हमें किसी और व्यक्ति के दुःख से बड़ा लगने लगता है। कई-कई बार जब हम उस दुःख से निकल पाने के हलात में नहीं होते, लगता है की दुनिया ख़तम सी हो गयी है, दुनिया में सब होते हुए भी हमारे जिंदगी में सब खत्म सा लगता है। जीने की उम्मीद भी मर जाती है। 


ज़माने को भी जब लगने लगता है की इसका कुछ नहीं हो सकता, तब आप उन सब चीज़ो से उबर के किसी अच्छे पल को जीते हुए पुरानी जिंदगी को मुड़ के देखो तो ओ पल कितना, नासमझी, बेवकूफी भरा, छोटा लगने लगता है। पर इसी बेवकूफी भरे पल से हर व्यक्ति नहीं निकल पाता है, निकल पाता है तो वह जो अपनी सोंच को विसम परिस्थिति में भी (positive) सकारात्मक रख पाता है। 


पर जब दुःख, तकलीफ वाली जो परिस्थिति होती है, वह अच्छे-अच्छे  पॉजिटिव सोच वाले की परीक्षा ले लेती है | जीवन संघर्ष का नाम है, जहाँ संघर्ष नहीं, वहा जीवन नहीं। बिना संघर्ष और परिश्रम के, कभी किसी को कुछ नहीं मिलता और यदि भाग्यवश कुछ मिल भी जाए तो वह अधिक समय तक टिक नहीं पाता। जीवन में प्रतिकूलताएं तो आती ही रहती हैं | ये बात हर कोई समझ जाये तो, सभी की परिस्थिति आसान हो जाएगी। आत्मविश्वास अगर दृढ हो तो विकट से विकट परिस्थिति घुटने टेक देती है। 


मन में ये धारणा रखे की चाहे कैसा भी वक्त हो मेरा बुरा नहीं हो सकता, दुख आ रहा है रास्ते में, तो कुछ अच्छा ही सोचा है भविष्य ने मेरे लिए -


प्यार पूरा न हो पाने के दर्द - यू तो इस मामले में सबकी अपनी-अपनी राय होती है, हालांकि जो भी ये दर्द सह रहा होता है। उसे लगता है की इस दुनिया में मेरे अलावा किसी ने एसा पल नहीं देखा होगा, या ऐसा दर्द नहीं सहा होगा, ये परिस्थिति ही अजीब होती है पूरी दुनिया गलत लगने लगती है, सपना टूट गया तो जीने का क्या मतलब ऐसा लगने लगता है, दिमाग कहता है की धीरे-धीरे सम्हल जायेंगे कस्ट सह लेते है अभी, पर दिल है की साथ ही नहीं देता। 

ऐसे समय के लिए ही कहा गया है कीडूबते को तिनके का सहारा काफी होता है। 


सकारात्मक-सोच-पॉजिटिव-सोच-की-ताकत-निरंतर-पोसिटिव-सोच-से-लाभ
सकारात्मक सोच, पॉजिटिव (positive) सोच की ताकत, निरंतर पोसिटिव सोच से लाभ 


ये बात गहराई से तब पता चलती है, की डूबते को तिनके का सहारा काफी होता है, जब सब परिस्थिति आपके विपरीत हो आप अगले ही पल क्या कर ले आपको उस चीज़ का अंदाज़ा न हो, अगर थोड़ा सा भी कोई सहारा न देता या ऐसे पल में आपको समझाता न तो आज आप इस दुनिया में ना होते, इस तरह जिंदगी आगे बढ़ती है और सुख-दुःख आते जाते रहते है। पर हर परिस्थिति में खुद को ढाल लेने वाला हमेसा ख़ुशी और एनर्जी से भरा हुआ रहता है। 


कुछ अच्छी विचार 


फूल बन कर जीने से क्या फाइदा पल मे मुरझा जाओगे, फूल बनकर जीने से क्या फायदा पल में मुरझा जाओगे। 
जीना है तो पत्थर बन कर जियो, कभी तरासे गये तो खुदा कहलाओगे। 


लहरों को साहिल की दरकार नहीं होती
हौसले बुलंद हो तो कोई दीवार नही होती
जलते हुए चिराग ने आधियो से ये कहा
उजाला देने वालों की कभी हार नही होती

ख्वाहिस भले पीदि सी हो पर
पर उसे पुरा करने के लिये जिद्दी सा बनो

जब मुझे यकिन है की खुदा मेरे साथ है, 
तो इससे कोई फरक नही पड़ता कौन मेरे खिलाफ है

जिन्दगी काँटओ का सफर है
हौसले इसकी पहचान है
रास्ते पर तो सभी चलते है
जो रास्ता बनाए वही इंसान है

मुस्किल नही है कुछ दुनिया मे
तु जरा हिम्मत तो कर
ख्वाब बदलेंगे हकीकत मे
तु जरा कोशीश तो कर  । 

चलता रहूँगा पथ पर
चलने मे माहीर बन जाऊंगा
या तो मंजिल मिल जाएगी
या अच्छा मुसाफिर बन जाऊंगा। 

कुछ बात तो है अच्छाई मे
जो अकेले भी लड़ती है 
अंधकार जितना गहरा हो
एक बाती भारी पड़ता है

उम्र बिता दी औरों के वजुद मे
नुक्स निकालते निकालते
इतना ही खुद को तराशा होता
तो फरीस्ते बन जाते

अपने हौसले को ये मत बताओ की
तुम्हारी परेसानी कितनी बड़ी है
अपने परेसानी को ये बताओ की
तुम्हारा हौसले कितनी बड़ी ह। 

सकारात्मक बने रहने के लिए ये करिये 

  • आप अपने सोच में पॉजिटिविटी लाइए, आप अपने आप को एक अलग ऊर्जा से भरा हुआ महसूस करेंगे, सभी चीजे अच्छी लगनी लगेगी मन हमेसा प्रसन्न रहेगा। 
  • सबसे बड़ी बात यह है की पॉजिटिव सोच रखने से हर काम पोसेटिव और आसान हो जाता है। 
  • एक समस्या आपके लिए अपनी बहेतरीन कोशिश करने का मौका है।
  • हर व्यक्ति अपने विचारों से निर्मित है, वो जैसा सोचता है वैसा बन जाता है, इसलिए हमेशा सकरात्मक सोचिये।
  • यदि जुनून आपको आगे ले जाता है, तो उसे हमेशा पकडे रहिये। 
  • जैसा सोच वैसा व्यक्तित्व बनता है इसलिए positive सोचे अच्छा एवं खुश रहें। 

दोस्तों सकारात्मक सोच के साथ हमेसा हँसते रहिये पोस्ट कैसा लगा कमेंट में जरूर बताइये, हलाकि बहुत सी कमिया है अभी इस लेख में, और बाते भी बहुत है इस टॉपिक पे, उम्मीद करता हु हमेसा अच्छा करने का प्रयाश करूंगा। 

इन्हे भी पढ़ें : 

Post a Comment