आज हम जीवन में महत्वपूर्ण टॉपिक व्यावहार ज्ञान के विषय में जानकारी देंगे जो आपके लिए फायदेमंद साबित होगा। Vyavaharik Gyan Kya Hai. जानें हिंदी में 

व्यावहारिक कौशल या व्यावहारिक ज्ञान (Introduction of Behavioural skills in hindi)

व्यावहार वह प्रक्रिया है जो किसी भी व्यक्ति के गुणों व अवगुणों को दर्शाता है। व्यावहारिक कौशल आपको सामाजिक परिवेश में सामजस्य बनाने व समाज में घुल-मिल कर रहने की काबिलियत को कहा जाता है। 


ध्यान दे की व्यावहारिक कौशल में आपकी प्रवृति (Attitude) की अहम भूमिका होती है। इसलिए व्यावहारिक कौशल Behavioural skills को समझने से पहले attitude को अच्छे से समझना बहुत जरूरी है। तो चलिए पहले attitude को समझते है। 

व्यावहारिक-कौशल-व्यावहारिक-ज्ञान-क्या-है
व्यावहारिक कौशल, व्यावहारिक ज्ञान क्या है ?

प्रवृति (रवैया) के बारें में (Attitude in hindi) 

प्रवृति (रवैया) किसी व्यक्ति की भूतकाल और भविष्य के आधार पर बन सकती है। प्रवृति वास्तव में एक व्यक्ति के जीवन में घटित घटना, जगहों, वातावरण आदि का प्रभाव होता है। बचपन से व्यक्ति का जिस जगह पर रहकर विकास होता है। जिस तरह के लोग उसके वातावरण में रहते हैं या यूँ कहें कि किसी व्यक्ति का दोस्तों का माहौल सर्कल पारिवारिक माहौल कैसा है। यह सब उसके जीवन शैली पर प्रभाव डालता है। सामान्य भाषा में कहें तो प्रवृति को किसी व्यक्ति के भाव (mode) के हिसाब से समझ सकते है। 


इसे व्यक्ति, वस्तु, घटना गतिविधि, गलत-विचार, सहीं-विचार आदि के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। इसी तरह ईगल (Eagle) व चेकेन (Chaikan) ने प्रवृति को परिभाषित करते हुए कहा है की "यह एक मनोवैज्ञानिक अवस्था है जो की एक अस्तित्व (entity) विशेष के आकलन के दौरान कुछ सीमा तक पक्ष और विपक्ष के साथ की जाती है। फिर भी प्रवृति को कभी-कभी एक वस्तु की ओर प्रभाव रूप में भी परिभाषित किया जाता है।" प्रभाव को सामान्यतया प्रवृति के पक्षपात मापक के रूप में पहचाना जाता है। 



प्रवृति मापन (Measurement of attitudes)

रवैया या प्रवृति (attitudes) को मापने के लिए अनेक मापक (measurements) और पैमाने (scales) का प्रयोग किया जाता है हालांकि यह पढ़ने और सुनने में थोड़ा अजीब जरूर लगता है परन्तु जिस तरह मनुष्य के हर एक मूवमेंट को किसी ना किसी प्रकार से मापा जा सकता है उसी तरह रवैया (प्रवृति) को भी मापने का एक पैमाना उपयोग में लाया जाता है हलाकि, प्रवृति के मापन में मुश्किल हो सकती है क्योंकि इसका मापन मनमाना (arbitrary) है या यूँ कहे की कोई सौ प्रतिशत गारंटी के साथ नहीं है। 


प्रवृति (रवैया) संरचना (Attitude structure in hindi) 

विलियम जे. मैक्मुरे द्धारा कहा गया है की प्रवृति में ज्ञान प्रभाव और व्यवहार सम्बन्धी अवयव (तत्व) होतें है। चाहे वह ज्ञान सकारात्मक हो या नकारात्मक 


समस्या समाधान (problem solving)

समस्या के समाधान का सोंच हमारे व्यवहारिता में सदियों से है। हालाँकि कुछ ही नाम जैसे दुनिया के नामी दर्शनशास्त्री, कवियों आदि को इस चीज में वास्तविकता को देखने परखने की महारत हासिल है। ताकि वे चीजों के गहन अर्थों और रहस्यों को समझ सके उन्हें सुलझा सके उदाहरण के लिए हम सब जानते हैं कि सेब का पेंड सदियों से विद्यमान है परन्तु सेब के पेड़ से सेब गिरने के बारे में व गुरुत्वाकर्षण के नियम के बारे में केवल न्यूटन ने ही पता लगाया। समस्या वह रास्ता है जो एक कड़ी को दूसरे कड़ी से जोड़ता है।

वैचारिक कौशल (Thinking skills)

यह व्यक्ति के वैचारिक क्षमता के आकलन का तरीका है, उनकी योग्यता को मापने के लिए किया जाने परीक्षण क्षमता है इसके माध्यम से बोधात्मक व ज्ञानात्मक विधियों समेत सामाजिक परिवेश के साथ व्यक्ति के सामजस्य के नियमित किये जाने वाले स्वप्रयास आतें है। यह आज के समय में जॉब इंटरव्यू में चयन प्रक्रिया के अवलोकन किया जाने वाला परिणाम है। 


व्यवहारिक ज्ञान में इस तरह कुशल हो सकते हैं 

अपने शरीर को बातचीत के अनुरूप बनाकर - बॉडी लेंग्वेज 

अक्सर हम जब बात कर रहे होते हैं तब हमारा शरीर कुछ और प्रतिक्रिया कर रहा होता है और बात किसी और दिशा में चल रहा होता है। यह बहुत ही जरुरी ज्ञान है क्योंकि जब हम इंटरव्यू में भी जाते है तब एक व्यक्ति ऐसा होता है जो हमारे बॉडी लेंग्वेज या यूँ कहे कि हमारी हरकतों पर नजर रखे हुए होता है। आपकी सफलता के लिए यह स्किल बहुत ही जरुरी है। 


आपमें एक अच्छा वक्ता व मोटिवेट करने का स्किल होना चाहिए 

अगर आप एक उद्यमी है या उद्यम करना चाहते हैं बिजनेस बढ़ाना चाहते हैं लोगों को काम पे रखना चाहते हैं उस स्थिति में आपको एक अच्छा वक्ता और मोटिवेशन करने वाला व्यक्ति होना बहुत ही जरुरी है यह स्किल आपमें होनी चाहिए तभी आप अपने टीम का अच्छे से नेतृत्व कर पाएंगे। 


किसी की बात को पूरा ध्यान से सुनना - तेज श्रवण स्किल 

अगर आपमें ध्यान से सुनने की स्किल है तो बहुत सी चीजे ऐसे ही आसान हो जाती है आप चीजों को जल्दी समझ जाते है इससे time भी बचाया जा सकता है और अपने अंदर ग्रोथ लाया जा सकता है। यह स्किल ज्यादातर लोगों के पास नहीं होती या ज्यादातर लोग इसको इतना जरुरी नहीं समझते जबकि इन सब ज्ञान का आप में होना बहुत ही जरुरी है। ये सफलता को आसान करने के माध्यम हैं। 


सामने वाले के आँखों में देखकर बात करना 

यह बहुत ही जरुरी सिक्ल है अगर आप आँखों में देखकर बात करते हैं तब सामने वाले को अंदाजा भी नहीं होता कि आप डरे हुए हो या नहीं। इस तरह से बात करके आप अपने भावनाओं को अच्छे से व्यक्त कर सकते हैं और सामने वाले का भी आपके बातों को सुनने का इंट्रेस्ट बना रहता है यह स्किल आपके बिजनेस, व्यापार लाइफ के साथ-साथ सामान्य लाइफ में भी बहुत आवश्यक और जरुरी है। 


आपकी संचार सिक्ल अच्छी हो - शब्दों का अच्छा ज्ञान व पकड़ हो 

एक बेहतरीन संवाद व वार्तालाप के लिए शब्दों का अच्छा ज्ञान होना जरुरी है आपमें तुरंत जवाबी का हुनर होना चाहिए और वह तब होगा जब आपके दिमाग की डिक्सनरी में शब्दों का असीमित भंडार हो सो अपने संचार स्किल को बेहतर करने के लिए अधिक से अधिक बुक पढ़ें। 


आत्मविश्वास के लिए उपाय (Measures for confidence building)

ये वे उपाय है जो किसी भी प्रकार के संकट के माहौल में सुरक्षित बाहर निकलने में सहायक हो सकते है। यह पद सामान्य स्थितियों में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रयुक्त किया जाता है। साथ ही मानव मात्र के स्तर पर बनने वाली द्व्दात्मक स्थितियों को न्यून कर अन्तर्सम्बन्धों में भरोषा उत्पन्न करने के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता है। 


गणितीय दृस्टि से यह पद कल्पना करता है की सकरात्मक फीडबैक मॉडल ही द्व्द का वैध मॉडल है। आत्मनिर्माणक उपयोगों में एक्सन्स प्रमुख भूमिका निभाते है। वे एक्सन्स जो आत्मविश्वास निर्माणक उपायों को स्थापित करती है। द्व्द को नकारात्मक फीडबैक प्रदान कर सकते है जो तनाव कमजोर करते है। अन्यथा वह बढ़कर युध में परिवर्तित हो सकती है। इस प्रकार व्यवहारिक कौशल के द्धारा जनमानस जटिल परिस्तिथियों को भी सामान्य में परिवर्तित कर सकता है। 

अंतिम शब्द -

आशा करतें है की आपको हमारा यह लेख व्यावहारिक कौशल, व्यावहारिक ज्ञान क्या है ?(Practical skills, what is practical knowledge in hindi)  पसन्द आये, और आपके काम आये, अगर जानकारी अच्छी लगी हो तो शेयर जरूर करें और हमारे Facebook पेज को अवश्य लाइक करें। अगर कोई सुझाव हो तो कॉमेंट जरूर करे- धन्यवाद,

Post a Comment