छोटी मगर प्रेरणा से भरी हुई प्रेरक कहानी "आम का मोह"


एक बार गुरू ने अपने शिष्य को समझाते हुए आम के पेंड की कहानी सुनाई और कहां - एक आम का वृक्ष था जिसमे ढेर सारे आम पके हुए थे, एक दिन उस पेंड का मालिक आया और पेंड पर चढ़कर सारे आम तोड़ने लगा। परन्तु एक आम का फल वृक्ष से दूर होने का मोह नहीं छोड़ पाया और वही कहीं पत्तों की आड़ में छिप गया। 


aam-ka-moh-hindi-kahani
मोह - एक पके हुए आम की प्रेरक कहानी


उस पेंड के मालिक को जब लगा कि उसने सारे आम तोड़ लिया है तब वह नीचे उतर गया और वहां से चला गया, यह सब वह छिपा हुआ आम देख रहा था। फिर दूसरे दिन जब उस आम ने देखा के उसके साथ के सारे आम तो जा चुके हैं केवल उसी का मोह उसे पेंड से अलग होने नहीं दे रहा है। उसे अपने मित्र आमों की याद सताने लगी। 


वह बार-बार सोचता कि नीचे कूद जाऊ और अपने दोस्तों से जा मिलु परन्तु उसे पेंड का मोह अपनी ओर खींचने लगता, आम रोजाना इसी सोंच में डूबा रहता। चिंता का यह कीड़ा उसे लगातार काटे जा रहा था जल्द ही वह सूखने लगा और एक दिन वह गुठली और छिलका के रूप में ही बस रह गया, उसके अंदर का सारा रस समाप्त हो गया था। 


अब अपना आकर्षण खो देने के कारण उसके तरफ कोई देखता भी नहीं था वह बहुत पछताने लगा की संसार का कोई सेवा नहीं कर सका, व वह लोगों का काम भी नहीं आ सका, आखिरकार एक दिन तेज हवा का झोंका आया और वह डाली टूटकर नीचे गिर गया 


दोस्तों "आम का मोह" कहानी का तात्पर्य या प्रेरणा, सन्देश यह है कि जरुरत से ज्यादा मोह आपको व्यर्थ बना सकता है, वो कहते हैं ना कि कही पहुंचे के लिए कही से निकलना बहुत जरुरी होता है। ठीक उसी तरह सफल होने के लिए मोह का त्याग करना आवश्यक होता है चाहे वह मोह आपके घर परिवार दोस्त यार आदि का हो चाहे आपके कम्फर्ट जोन का - आखिर में : रोज एक कदम सफलता की ओर। 


अंतिम शब्द -

आशा है की आपको हमारा यह लेख मोह - एक पके हुए आम की प्रेरक कहानी (Moh - Inspirational Story of a Ripe Mango in hindi) पसंद आये, अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे share जरूर करें और हमारे Facebook page को follow करें अगर हमारे लिए कोई सुझाव हो तो comment करें - धन्यवाद


सबसे बेस्ट कहानियों का संग्रह 

Post a Comment